Join Us On What'apps 09416682080

?? Dabwali ????? ?? ???? ????, ?? ?? ?? ??? ???? ??????? ???? ?? ??? ?? ??????? ?? ?????????? ?? ?? ??????, ?? ????? ?? ???? ???????? ???? ???? dblnews07@gmail.com ?? ???? ??????? ???? ?????? ????? ????? ?? ????? ?????????? ?? ???? ???? ??? ?? ???? ?????? ????? ???? ????? ??? ?? 9416682080 ?? ???-??, ????-?? ?? ?????? ?? ???? ??? 9354500786 ??

Trending

3/recent/ticker-posts

Labels

Categories

Tags

Most Popular

Contact US

Powered by Blogger.

DO YOU WANT TO EARN WHILE ON NET,THEN CLICK BELOW

Subscribe via email

times deal

READ IN YOUR LANGUAGE

IMPORTANT TELEPHONE NUMBERS

times job

Blog Archive

टाईटल यंग फ्लेम ही क्यूं?

Business

Just Enjoy It

Latest News Updates

Followers

Followers

Subscribe

Lorem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry. Lorem Ipsum has been the industry's.

Pages

Most Popular

बीकानेर के पास दर्दनाक सड़क हादसा: डबवाली के छह लोगों की मौत
किड्स किंगडम स्कूल में मनाया गया कारगिल विजय दिवस
डबवाली को जिला बनाने पर विवाद: बड़ागुढ़ा, रोड़ी और कालांवाली के 44 गांवों ने जताया विरोध
डबवाली स्थित जीडी जिंदल अस्पताल में डकैती 15 लाख रुपए कैश और 15 तोले सोने के जेवर लेकर हुए फरार
चेयरमैन देवकुमार शर्मा द्वारा गांव ओढ़ा की रखी गई सभी समस्याओं को एसडीओ ने शीघ्र पूरा करने का आश्वासन दिया
 गोरीवाल चौकी के एक गांव में प्रेम संबंध के चलते एक युवक की हत्या
मसाज सेंटर पर पुलिस का छापा ,पंजाब पुलिसकर्मी समेत चार दबोचे
ANC स्टाफ डबवाली ने 600 ग्राम अफीम व कार सहित तीन को किया काबू
 चौंकी गोल बाजार पुलिस ने अपहरण के मामले मे यूवक को किया गिरफ्तार
 डबवाली में जेजेपी चुनावी कार्यालय का उद्घाटन आज

Popular Posts

Secondary Menu
recent
Breaking news

Featured

Haryana

Dabwali

Dabwali

health

[health][bsummary]

sports

[sports][bigposts]

entertainment

[entertainment][twocolumns]

Comments

#Tractorrally - क्या किसानों ने तिरंगा उतारकर लाल किले पर फहराया 'खालिस्तानी झंडा''? जानिए पूरा सच




इमेज स्रोत,GETTY IMAGES

दिल्ली में मंगलवार को गणतंत्र दिवस की परेड के बाद ट्रैक्टर रैली के दौरान आंदोलित भीड़ में से कुछ लोग लाल किले की प्राचीर पर चढ़ गए. ये लोग कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों से जुड़े बताए जा रहे हैं.


इनमें से कुछ लोगों ने लाल किले की प्राचीर पर कुछ झंडे फहरा दिए. सोशल मीडिया पर कई लोगों ने दावा किया है कि इन लोगों ने लाल किले की प्राचीर से भारतीय झंडे को उतारकर 'खालिस्तानी झंडा' फहरा दिया. इसके बाद से लोग इसके ख़िलाफ़ कार्रवाई की माँग कर रहे हैं.
छोड़िए Twitter पोस्ट, 1


पोस्ट Twitter समाप्त, 1

ट्विटर यूज़र श्याम झा ने लिखा है, "गाँव का बच्चा भी जानता था कि क्या होने जा रहा है. और हम किसी अदृश्य मास्टरस्ट्रोक का इंतज़ार कर रहे थे. इतिहास हमेशा याद रखेगा कि मोदी जी के राज में लाल किले में लोग घुसे और खालिस्तानी झंडा फहराया गया."


लाल किले पर लोगों के घुसने और झंडे फहराए जाने के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हैं. इन वीडियो में लाल किले पर कुछ लोग झंडे फहराते नज़र आ रहे हैं. पहली नज़र में ये झंडे केसरिया और पीले रंग के नज़र आ रहे हैं.


ट्विटर पर एक महिला श्वेता शालिनी ने लाल किले पर फहराए गए दो झंडों में फर्क बताया है.

उन्होंने लिखा, "कुछ लोगों के लिए ये जानकारी है - कृपया दो झंडे देखिए, एक झंडा केसरिया निशान साहिब जो कि आपको सभी गुरुद्वारों में भगवा रंग में मिलेगा. दूसरा झंडा चौकोर पीले रंग का झंडा है, कृपया तीसरी तस्वीर में देखिए कि इसका क्या मतलब है. #KHALISTANIflag"
छोड़िए Twitter पोस्ट, 2


पोस्ट Twitter समाप्त, 2

वहीं, समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने भी इस घटना की निंदा की है.


आरएसएस ने कहा है कि लाल किले पर जो कुछ हुआ है, वो उन लोगों का अपमान है जिन्होंने भारत की आज़ादी के लिए अपनी जान दी. लेकिन कई वरिष्ठ पत्रकारों ने लाल किले पर फहराए गए झंडे के खालिस्तानी झंडा होने से इनकार किया है.


वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा है, "निशान साहिब झंडा एक खालिस्तानी झंडा नहीं है. ये सिख धर्म में पूज्यनीय झंडा है. लेकिन गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले पर जबरन इसे फहराने की कोई ज़रूरत नहीं थी."
छोड़िए Twitter पोस्ट, 3


पोस्ट Twitter समाप्त, 3

वहीं, ऑल्ट न्यूज़, एक वेबसाइट जो सोशल मीडिया पर नकली/ फर्जी समाचारों की जांच करती है, ने जांच की और कहा कि प्रदर्शनकारियों ने तिरंगे को नुकसान नहीं पहुंचाया.


वहीं, उपलब्ध वीडियो में कहीं भी प्रदर्शनकारी तिरंगा हटाते नहीं दिख रहे हैं. वास्तव में, जब वे लाल किले की प्राचीर पर चढ़े, तो उन्होंने कई स्थानों पर भगवा और किसानी झंडे फहराए.


अब आपको बताते हैं कि खण्डे के चिन्ह के साथ भगवा झंडा असल में क्या है.


इस बारे में पंजाबी विश्वविद्यालय, पटियाला के श्री गुरु ग्रंथ साहिब विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर सरबजिंदर सिंह से इस बारे में जानकारी ली.


सरबजिंदर सिंह ने बताया कि निशान शब्द एक फ़ारसी शब्द है. सिख धर्म में सम्मान स्वरूप इसके साथ 'साहिब' शब्द का इस्तेमाल किया जाता है.



इमेज स्रोत,REUTERS


निशान साहिब को पहली बार सिख धर्म के छठे गुरु द्वारा सिख धर्म में स्थापित किया गया था जब लाहौर में जहांगीर के आदेश पर गुरु अर्जन देव जी की हत्या कर दी गई थी.


सिख परंपरा के अनुसार, पांचवें गुरु ने बाल हरगोबिंद को एक संदेश भेजा, जिसे "गुरु अर्जन देव जी के अंतिम संदेश" के रूप में जाना जाता है.


आदेश था, "जाओ और उसे कहो कि शाही सम्मान से कलगी पहने, सेना रखे और सिंहासन पर बैठकर निशान स्थापित करे ."


जब बाल हरगोबिंद को पारंपरिक रूप से बाबा बुड्ढा जी द्वारा गुरुगद्दी की रसम निभाई जा रही थी, उस समय वह बोले, " इन सभी चीजों को राजकोष में रखो, मैं शाही धूमधाम के साथ कलगी धारण करूंगा और निशान स्थापित करूँगा, सिंहासन पर बैठा मैं सेना को रखूंगा, मैं भी शहीद हो जाऊंगा, लेकिन उनका रूप पांचवें बातशाह से अलग होगा . शहादतें अब जंग के मैदान में दी जाएंगी."


पहली बार मीरी पीरी की दो तलवारें पहनी और श्री हरमंदिर साहिब के बिलकुल सामने 12 फीट ऊंचे मंच की स्थापना की. (दिल्ली राजशाही का सिंहासन 11 फीट था और भारत में इससे ऊंचे सिंहासन का निर्माण करना दंडनीय था). इसे 12 फीट ऊंचा रखके सरकार को चुनौती दी गई थी.


यह तख्त भाई गुरदास और बाबा बुड्ढा जी द्वारा बनवाया गया था. इसके पहले जत्थेदार, भाई गुरदास जी को, खुद छठे बादशाह द्वारा नियुक्त किया गया था. इसके सामने दो निशान स्थापित किए गए थे.



इमेज स्रोत,REUTERS


जिन्हें पीरी और मीरी के निशान कहा जाता है. पीरी का निशान अभी भी मीरी से सवा फुट ऊँचा है.


गुरु बादशाह के समय, इसका रंग भगवा (केसरी) था, लेकिन 1699 में खालसा के निर्माण के बाद, नीले निशान का भी इस्तेमाल किया गया था. इसे उस समय अकाल ध्वज भी कहा जाता था.


केसरी निशान साहिब वास्तव में सिख धर्म के स्वतंत्र व्यक्तित्व का प्रतीक है. यह एक धार्मिक प्रतीक है और प्रत्येक गुरुद्वारा या सिख इतिहास से जुड़े स्थानों पर स्थापित किया जाता है.


जो केसरी निशान लाल किले पर लहराया गया है वह किसी राजनीतिक दल या राजनीतिक आंदोलन का झंडा नहीं है. बल्कि यह सिख धर्म का प्रतीक है.
Source Link - #Tractorrally - Did the farmers take off the tricolor and hoisted the 'Khalistani flag' on the Red Fort? Know the whole truth

No comments:

IMPORTANT-------ATTENTION -- PLEASE

क्या डबवाली में BJP की इस गलती को नजर अंदाज किया जा सकता है,आखिर प्रशासन ने क्यों नहीं की कार्रवाई