?? Dabwali ????? ?? ???? ????, ?? ?? ?? ??? ???? ??????? ???? ?? ??? ?? ??????? ?? ?????????? ?? ?? ??????, ?? ????? ?? ???? ???????? ???? ???? dblnews07@gmail.com ?? ???? ??????? ???? ?????? ????? ????? ?? ????? ?????????? ?? ???? ???? ??? ?? ???? ?????? ????? ???? ????? ??? ?? 9416682080 ?? ???-??, ????-?? ?? ?????? ?? ???? ??? 9354500786 ??

Trending

3/recent/ticker-posts

Labels

Categories

Tags

Most Popular

Secondary Menu
recent
Breaking news

Featured

Haryana

Dabwali

Dabwali

health

[health][bsummary]

sports

[sports][bigposts]

entertainment

[entertainment][twocolumns]

प्रीपेड मीटर लगाने का झांसा देकर 20 लाख ठगे, डबवाली की फर्म की शिकायत पर पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया

Dabwalinews.com
विद्युत निगम की ओर से प्रस्तावित प्री-पेड मीटर स्कीम का झांसा देकर डबवाली की फर्म मैसर्ज आरके मैन सप्लाई एंड सर्विस के संचालकों से 20 लाख रुपये ठगने का मामला सामने आया है।
डबवाली शहर पुलिस ने शिकायत के आधार पर दो लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्जकर जांच शुरू कर दी है।मैसर्ज आरके मैन सप्लाई एंड सर्विस के संचालक रवि पुत्र सुलतान निवासी रिसालियाखेड़ा ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उनकी फर्म ठेकेदारों को लेबर उपलब्ध करवाने का कार्य करती है।
बताया कि ईगल आई स्टडीज एजूकेशनल चेरीटेबल ट्रस्ट दिल्ली का डायरेक्टर बताने वाले रामनारायण उर्फ अमृत पुत्र महेंद्र कुमार निवासी अबोहर व उसके साथी कुलविंद्र निवासी मोहाली ने एक जुलाई 2020 को उनसे संपर्क साधा। कहा कि उनके पास हरियाणा सरकार से सिरसा जिला में प्री-पेड स्मार्ट मीटर लगाने का ठेका है। उन्हें मीटर इंस्टाल करने है और इसकी एवज में उन्हें 10 प्रति मीटर मिलेगा। कहा गया कि सिरसा जिला में चार लाख मीटर इंस्टाल करने है। उनकी बात पर विश्वास करके एग्रीमेंट के लिए 75 हजार रुपये उनकी फर्म के नाम जारी किए। इसके बाद फिर से पैसे का तकाजा किया। जिस पर उन्होंने अपने रिश्तेदारों से उधार लेकर नगद राशि का भुगतान उन्हें किया। इस दौरान आरोपियों द्वारा उनके साथ लिखित एग्रीमेंट भी किया गया और विश्वास दिलाने के लिए कोरे चैक भी दिए। काम शुरू करने के लिए जब भी कहा तो कहा गया कि किसान आंदोलन चल रहा है। इसलिए विलंब हो रहा है, जल्द ही काम शुरू होगा। स्मार्ट मीटर पहुंच जाएंगें। बहानेबाजी करते हुए जून-2021 आ गया और आरोपी 20 लाख रुपये हड़प चुके थे। जब उन्होंने अपने स्तर पर पड़ताल की तो पाया कि आरोपियों के पास सरकार से कोई परमिशन प्राप्त नहीं है और उनके साथ सरासर धोखाधड़ी की गई है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर आरोपियों के खिलाफ भादंसं की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्जकर जांच शुरू कर दी है।



20 lakh cheated on the pretext of installing prepaid meter, police registered a case of fraud on the complaint of Dabwali's firm

Dabwalinews.com
A case of cheating of Rs 20 lakh from the operators of Dabwali's firm M/s RK Man Supply and Service on the pretext of the proposed pre-paid meter scheme by the Electricity Corporation has come to light.
Dabwali city police has started investigation by registering a case of cheating against two people on the basis of complaint. Risaliyakheda, a resident of Ravi Putra Sultan, operator of M/s RK Man Supply and Service, told in the complaint to the police that his firm is providing labor to the contractors.
works of. Told that Ramnarayan alias Amrit, son of Mahendra Kumar, who told the Director of Eagle Eye Studies Educational Charitable Trust Delhi, Abohar and his partner Kulwinder resident of Mohali contacted him on July 1, 2020. Said that he has a contract with the Haryana government to install pre-paid smart meters in Sirsa district. They have to install the meter and in return they will get 10 per meter. It was said that four lakh meters have to be installed in Sirsa district. Believing his words, 75 thousand rupees were released in the name of his firm for the agreement. After that again asked for money. On which he took a loan from his relatives and paid them in cash. During this, a written agreement was also made by the accused with them and blank checks were also given to give them confidence. Whenever asked to start the work, it was told that the farmers' movement was going on. That's why there is a delay, the work will start soon. Smart meters will arrive. Making excuses, June-2021 arrived and the accused had grabbed Rs 20 lakh. When he investigated at his level, it was found that the accused did not have any permission from the government and they were completely cheated. Based on the complaint, the police have started investigation by registering a case against the accused under various sections of the IPC.




No comments: