Trending

3/recent/ticker-posts

Labels

Categories

Tags

Most Popular

Secondary Menu
recent
Breaking news

Featured

Haryana

Dabwali

Dabwali

health

[health][bsummary]

sports

[sports][bigposts]

entertainment

[entertainment][twocolumns]

Hindi day : हाथ में हमारे देश की शान, हिंदी अपनाकर हम बने महान

Dabwalinews.com
गोल्डन ऐरा स्कूल में 14 सितंबर दिन मंगलवार को हिंदी दिवस मनाया गया।स्कूल में अलग-अलग तरह की प्रतियोगिताएं करवाई गई जैसे कि सुलेख प्रतियोगिता, ड्राइंग प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता कविता प्रतियोगिता आदि। सभी बच्चों ने बढ़ चढ़कर प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया। नन्हे-मुन्ने बच्चों ने ड्राइंग प्रतियोगिता में सुंदर एवं आकर्षित ड्रॉइंग बनाई। पहली से पांचवी कक्षा के बच्चों ने कविता प्रतियोगिता में हिस्सा लिया सभी बच्चों ने अलग-अलग कविताएं हिंदी दिवस के ऊपर सुनाई। छठी से आठवीं तक के बच्चों ने भाषण प्रतियोगिता, पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया बच्चों ने सुंदर सुंदर हिंदी दिवस पर पोस्टर बनाएं।कक्षा पहली में गुरसिफ्त कौर ने कविता प्रतियोगिता में पहला और नवनूर सिंह ने दूसरा स्थान प्राप्त किया। दूसरी कक्षा में एकम सिंह ने पहला स्थान प्राप्त किया तीसरी कक्षा में गुरफथेह सिंह ने पहला स्थान सुखमण ने दूसरा परीक्षित ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। चौथी कक्षा में समरप्रीत ने पहला, आरिव ने दूसरा मोहप्रीत ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। पांचवी कक्षा में जसमीत ने पहला अवरीत ने दूसरा और चारवी ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। छठी कक्षा के विद्यार्थियों ने पोस्टर मेकिंग में नमन ने पहला,अमानत ने दूसरा और मन्नत ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। कक्षा सातवीं की काशवी ने भाषण प्रतियोगिता में पहला स्थान एकम ने दूसरा और सुमन ने तीसरा स्थान प्राप्त किया आठवीं कक्षा की महक ने पहला और सिमरन ने दूसरा स्थान प्राप्त किया। सभी प्रतियोगिताएं हिंदी की अध्यापिका मोनिका मैम, निशा मैम, अंजली मैम, रजनी मैम की देख रेख मे करवाया गए। बच्चों ने भाषण के दौरान हिंदी दिवस का महत्व बताया कि भारत में हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है साल 1947 में देश के आजाद होने के बाद संविधान में नियम और कानून के अलावा नए राष्ट्र की अधिकारिक भाषा का मुद्दा भी अहम था जिसके बाद 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एकमत से निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी हिंदी को देश की राजभाषा घोषित किए जाने के दिन ही हर साल हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया गया पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया तब से अभी तक हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। हिंदी दिवस को उस दिन को याद करने के लिए मनाया जाता है जिस दिन हिंदी हमारे देश की आधिकारिक भाषा बन गई। यह हर साल हिंदी के महत्व पर जोर देने और हर पीढ़ी के बीच इसको बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है जो अंग्रेजी से प्रभावित है। यह युवाओं को अपनी जड़ों के बारे में याद दिलाने का एक तरीका है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम कहाँ तक पहुंचे हैं और हम क्या करते हैं अगर हम अपनी जड़ों के साथ मैदान में डटे रहे और समन्वयित रहें तो हम अपनी पकड़ मजबूत बना लेंगे।
स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ दीप्ति शर्मा ने हिंदी भाषा का महत्व समझाते हुए कहा कि हिंदी भाषा हमारे जीवन में अहम रोल अदा करती है।जहाँ अंग्रेजी एक विश्वव्यापी भाषा है और इसके महत्व को अनदेखा नहीं किया जा सकता है वहीँ हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हम पहले भारतीय हैं और हमें हमारी राष्ट्रीय भाषा का सम्मान करना चाहिए। भारत में हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकृत करने का कदम स्वागत योग्य हैं हालांकि हर वर्ष हिंदी दिवस को मनाने का निर्णय वाकई काबिले तारीफ है। हिंदी दिवस एक अनुस्मारक है कि जहां ​भी ​हम जाएँ हमें अपने आदर्शों और संस्कृति को नहीं भूलना चाहिए। यही हमें परिभाषित करता है और हमें इसका आनंद उठाना चाहिए।
जन-जन की आशा है हिन्दी
भारत की भाषा है हिन्दी
हिन्दी का सम्मान करें
दु‍निया भर में नाम करें
Source Link - Hindi day : Pride of our country in hand, we became great by adopting Hindi

No comments: