BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

मंगलवार, सितंबर 15, 2020

स्नेकमैन खुशी मोहम्मद के प्रयासों से विलुप्त मान ली गई डिजार्ट लिजर्ड नामक गोह अब डबवाली में भी दिखाई दी




डबवाली न्यूज़ डेस्क 
वन्यजीव प्रेमियों के लिए यह खुशी की खबर है विलुप्त प्राय मान ली गई डिजार्ट लिजर्ड नामक गोह की एक प्रजाति का आस्तित्व अब भी कायम है। संपूर्ण भारत में अब तक तीन मॉनिटर लिजर्ड इस प्रजाति की देखी गई है।इस संबंध में स्नेकमैन खुशी मोहम्मद ने बताया कि डिजार्ट लिजर्ड नामक गोह की उक्त प्रजाति वन्यजीव अधिनियम 1972 के शेडयूल-1 का जीव है, जिसे बहुत ही संकट ग्रस्त प्रजाति माना गया है। संपूर्ण भारत में अब तक तीन मॉनिटर लिजर्ड इस प्रजाति की देखी गई है जिस कारण इसे पूरी तरह विलुप्त मान लिया गया था। परंतु वन्यजीव प्रेमियों द्वारा लगातार जीवों के प्रति जागरूकता के कारण अब लोग इस जीव को बचाने का स्वयं प्रयास करने लगे हैं। सिरसा व डबवाली क्षेत्र में काम कर रही संस्था वन्य जीव रक्षा और पर्यावरण संरक्षण को समर्पित सुरक्षा चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा 1998 में एक मुहिम चलाई गई जिसके अंतर्गत वन्यजीवों की रक्षा के लिए तथा विलुप्त होती प्रजातियों के संरक्षण हेतु उन्हें बचाने का काम शुरू किया गया। इसमें 2010 में एक एमरजेंसी रिलीफ टीम नेटवर्क स्थापित किया गया जिसमें सैकड़ों वालंटियर्स फ्री सेवा दे रहे हैं और यही कारण था कि एमरजेंसी टीम वन्य जीव विभाग को साथ लेकर लगातार संरक्षण का काम करती आ रही है जिससे कोबरा तथा मॉनिटर लिजर्ड जैसे विलुप्त होती प्रजातियों के संरक्षण में सहायता मिली। इस संस्था के चेयरमैन भंवर लाल स्वामी उर्फ सूरज कुमार के मार्गदर्शन में संस्था द्वारा एमरजेंसी सेवाएं 24 घंटे फ्री दी जाती है जिसमें शहर के आसपास जहां पर इन जीवो की आबादी अधिक है अगर यह जीव किसी के घर में घुस जाते हैं तो लोग इन्हें न मारे इसके लिए इन जीवों को रेस्क्यू किया जाता है। वन्यजीव विभाग की सहायता से इन्हेे जंगलाती क्षेत्र में रिलीज कर देते हैं ताकि इन जीवों की ये प्रजातियां और अधिक पनप सकें। सबसे बडी और विचित्र बात यह है कि लोग इस जीव को देखते ही दहशत में आ जाते थे क्योकि अनेक भ्रांतिया इसके बारे में समाज में फैली थी की गोहिरा सबसे जहरीला जीव है जो काट ले तो व्यक्ति की कुछ ही सैकिंडो में मौत हो जाती है। जबकि सच्चाई यह है कि इस जीव में बिल्कुल भी जहर नही होता और लोग दहशत और भय की वजह से न केवल इस जीव को मारते थे बल्कि इसके काटने पर डर की वजह से हार्टअटेक या ब्रेन हेमरेज होने कारण अनेक लोग जान गंवा देते थे। इसी कड़ी में लगातार जागरूकता और जानकारी के कारण आज यहां आसपास इन जीवों की संख्या बढ़ रही है। खुशी मोहम्मद ने बताया कि इस जागरुक्ता के कारण ही लोगों ने दो दिन पूर्व ही प्रेम नगर में एक घर में उक्त प्रजाति की लिजर्ड देखी तो लोगों ने उन्हें सूचना दी। उन्होंने तुरंत मौके पर पहुंचकर रेसक्यू किया और उक्त लिजर्ड को पकड़ कर जंगलात क्षेत्र में छोड़ दिया। इससे पहले जून माह में भी इसी प्रजाति की एक लिजर्ड को गुरु जंभेश्वर नगर से पकड़ कर उन्होंने सुरक्षित जंगलात क्षेत्र में रिलीज किया था। डबवाली में विलुप्त होती प्रजाति की मॉनिटर लिजर्ड जो पाई गई है उसे टरमिट हिल डेको या डिजर्ट मॉनिटर लिजर्ड कहा जाता है। इस सुरक्षा सस्था द्वारा संचालित एमरजेंसी रिलीफ टीम के सदस्यों को सिरसा जिला में आज तक इस प्रजाति की 9 मॉनिटर लिजर्ड मिली हैं। इनमें से 2 मॉनिटर लिजर्ड को फिलहाल डबवाली में रिलीज किया गया है ताकि वे यहां और अधिक पनप सकें।
स्नेकमैन खुशी मौहम्मद ने बताया कि वन्य जीव अधिकारी इंस्पेक्टर स. परमजीत सिंह ने इस बाबत संपर्क करने पर उन्हें बताया कि इस प्रकार के जीवो का यहां होना इस बात की ओर संकेत करता है कि बहुत सारी भ्रांतियां जो इन जीवो के बारे में फैली हुई थी अब वे खत्म हो रही है। यह माना जाता रहा है कि अब यह जीव विलुप्त हो रहे हैं परंतु बदलते परिवेश और वन्य जीव रक्षा के प्रति लोगों में आई जागरूकता इन जीवों को बचाने में सहायक साबित हो रही हैं। पर्यावरण संरक्षण के प्रति तथा जीव प्रेमियों के सहयोग के कारण बहुत ही सराहनीय काम क्षेत्र में किए जा रहे हैं। अब अधिक से अधिक लोगों को जागरूक करने की मुहिम तेज की जाएगी। परमजीत सिंह ने यह भी कहा कि दोनों लोकेशन सिरसा व डबवाली में इन जीवो को लगातार मॉनिटरिंग किया जा रहा है और इनके सभी प्रकार के डाटा को तैयार कर रिपोर्ट विभाग को भेजी जाएगी। इस अवसर पर वाइल्ड लाइफ इंस्पेक्टर परमजीत सिंह, भंवरलाल स्वामी चेयरमैन सुरक्षा ट्रस्ट, टीम लीडर एमरजेंसी रिलिफ टीम नैटवर्क, स्नेकमैन खुशी मोहमद, रोहताश वर्मा, पवन वर्मा एवं एमरजेंसी रिलिफ टीम नेटवर्क के वालंटियर्स उपस्थित रहे। इस प्रजाति की दो लिजर्ड स्नेकमैन खुशी मोहम्मद के प्रयासों से अब डबवाली में भी दिखाई दी हैं जिसे उन्होंने रेसक्यू करते हुए जंगलात क्षेत्र में छोड़ दिया है। इस बात की जानकारी मिलने के बाद वन्य जीव विभाग भी सतर्क हो गया है और विलुप्त मान ली गई इस प्रजाति को लेकर जागरुक्ता मुहिम छेडऩे की बात कह रहा है।
Source- Press Release

कोई टिप्पणी नहीं:

AD

पेज