BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 9354500786 पर

मोबाइल पर समाचार सुने के लिए कृपया निचे दिया काले रंग के स्पीकर को दबाएं

बुधवार, फ़रवरी 03, 2021

कृषि कानून लागू होने से पहले ही अडानी व अंबानी ने सैकड़ों एकड़ में देशभर में अभी से पहले वेयर हाउस बना लिए हैं - बजरंग गर्ग

Dabwalinews.com
जींद ़- अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने जिन्द के उत्सव होटल में व्यापारी प्रतिनिधियों कि मीटिंग लेने के उपरान्त कंडेला गांव में अपने साथियों सहित किसान आंदोलन को व्यापार मंडल का समर्थन देते हुए कहा कि जब देश व प्रदेश का किसान व आढ़ती तीन कृषि काले कानून को नहीं चाहता, तो केंद्र सरकार क्यों जबरन यह कानून किसान, आढ़ती व मजदूर पर थोपना चाहती है।इससे देश व प्रदेश का किसान अपने ही जमीन में बन्धवा मजदूर बनकर रह जाएगा। प्रधानमंत्री अडानी व अंबानी को लाभ पहुंचाने के लिए तीन काले कृषि कानून लेकर आई है ताकि बड़ी-बड़ी कंपनी किसान की जमीन व अनाज सस्ते दामों पर खरीद कर अनाज के व्यापार पर कब्जा कर सके। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि अभी तक तीन कृषि कानून देश व प्रदेश में पूरी तरह लागू तक नहीं हुए मगर अडानी व अंबानी ने हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों में सैकड़ों एकड़ जमीन पर वेयर हाउस अभी से पहले बनाकर उसमें बड़ी-बड़ी स्टील की टैन्की लगा ली है। इससे साफ सिद्ध होता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन कृषि कानून किसान व आढ़तियों से बातचीत करने की बजाए अडानी व अंबानी से बातचीत कर के देश में लागू किए हैं। अब सरकार कृषि कानून पर किसानों से बात करने का ढोंग कर रही है जब सरकार ने बिना किसानों से बातचीत करके तीन कृषि काले कानून लागू किए है तो सरकार को बिना बातचीत करते हुए तुरंत प्रभाव से किसान, आढ़ती, मजदूर व आम जनता के हित में तीन कृषि कानूनों को वापिस लेना चाहिए। अगर केंद्र सरकार तीन कृषि काले कानून वापस नहीं लेती है तो हरियाणा की सरकारी मंडियां बर्बाद हो जाएगी और सरकारी मंडियां बंद होने से किसान की फसल एमएसपी रेटों पर कौन खरीदेगा। इससे किसानों को नुकसान होने के साथ-साथ मंडी में लाखों आढ़ती, मुनीम व मजदूर बेघर हो जाएंगे। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि 70 दिनों से किसान भारी ठंड में सड़कों पर आंदोलन कर रहे हैं। जिसमें लगभग 85 किसानों ने अपनी जान की कुर्बानी दे चुके हैं। श्री गर्ग ने कहा कि सरकार को किसान आंदोलन में हुए शहीद के परिवारों को कम से कम 50 लाख रुपए मुआवजा व एक सरकारी नौकरी देनी चाहिए। हमारा किसान देशभक्त हैं, देश की आजादी में किसानों का बहुत बड़ा योगदान है। किसान का बेटा ही फौज में भर्ती होकर सीमाओं पर देश की रक्षा कर रहा है। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा कि केंद्र सरकार को अपना तानाशाही रवैया को छोड़कर किसान संगठनों से बातचीत करके तीन काले कृषि कानून को तुरंत प्रभाव से वापिस लेकर किसान, आढ़ती मजदूर व आम जनता को राहत देने का काम करना चाहिए। जबकि आज देश में लगातार अर्थव्यवस्था बिगड़ती जा रही है और व्यापार व उद्योग ठप्प हो रहें हैं। जिसके कारण लाखों युवा व नागरिक बेरोजगार हो गए हैं जो देश हित में नहीं है। इस व्यापार मंडल के जिला प्रधान महावीर कम्पयूटर, रेडी मेंट ग्रामेट एसो. प्रधान जय कुमार गोयल, कपड़ा मार्केट एसो. प्रधान राजेश काजी, साड़ी एसो. अशोक गोयल, वर्तन एसो. प्रधान जितेन्द्र जैन, नारनौद प्रधान राजवीर जैन, किरायणा एसो. प्रधान कृष्ण जिन्दल, सब्जी मंडी किरायणा प्रधान भोला राम गुप्ता, व्यापार मंडल उपप्रधान सतीश जिन्दल, प्रदेश सचिव निरजन गोयल, पालिका बाजार भजन लाल गर्ग, रोहतक रोड़ फर्निचर एसो. प्रधान लाजपत सामलो, प्रदेश प्रवक्ता राज कुमार गोयल, युवा प्रदेश प्रवक्ता अखिल गर्ग आदि भारी संख्या में व्यापारी प्रतिनिधी मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

AD

पेज