BREAKING NEWS

Post Top Ad

Your Ad Spot
�� Dabwali न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें dblnews07@gmail.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर ��अगर आप हमारी पत्रकारिता को पसंद करते हैं और हमें आर्थिक सहयोग करना चाहते हैं तो 9416682080 पर फोन-पे, गुगल-पे या पेटीएम कर सकते हैं 9354500786 पर

मोबाइल पर समाचार सुने के लिए कृपया निचे दिया काले रंग के स्पीकर को दबाएं

मंगलवार, फ़रवरी 09, 2021

डबवाली में अतिक्रमण की समस्या दिनों दिन बनी नासूर

Dabwalinews.com 
डबवाली में अतिक्रमण की समस्या दिनों दिन नासूर बनती जा रही है । सब्जी मंडी से लेकर कॉलोनी रोड, कॉलोनी रोड से लेकर चौटाला रोड, चौटाला रोड से लेकर बठिंडा रोड, और फिर जीटी रोड कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं जहां पर अतिक्रमण ना हो। हालात इतने बदतर हो गए हैं कि दुकानदारों ने अपने आगे सब्जी फ्रूट की रहेड़िया और सड़कों पर फुटकर समान बेचने वाले बैठा कर सरकारी सड़क का ही किराया वसूलना शुरु कर रखा है। चौटाला रोड पर दुकानों के आगे बैठे हरे छोले बेचने वाले इसका उदहारण है। जिसका खामियाजा यातायात चालको को जाम के रूप में भुगतना पड़ रहा है। ऐसा नहीं है कि प्रशासन को इसकी जानकारी नहीं है लेकिन शायद किसी बड़े हादसे का इंतजार आंखें मूंदकर कर रहा है सिल्वर जुबली चौक जाम अब आम हो गया है, और वहां से गुजरना हो तो ऐसे लगता है जैसे कोई किला जीत लिया हो। डबवाली में आए दिन जाम की खबरें तो वायरल होती थी आज पूरा दिन अतिक्रमण का मुद्दा भी सोशल मीडिया पर छाया रहा हर कोई व्यक्ति जाम और अतिक्रमण से त्रस्त नजर आया और प्रशासन की कारगुजारीओं पर भी सवालिया निशान उठते रहे। डबवाली विकास मंच के अध्यक्ष राजेश जैन काला तो कहना है कि हर समस्या के लिए प्रशासन यह क्यों उम्मीद करता है कि इसके लिए आंदोलन किया जाए। छोटी-छोटी समस्याओं को नज़रंदाज़ कर उसे विकराल कर दिया जाता है। जनता दिनभर उस समस्या से जूझती रहती है और प्रशासन को कोसती रहती है हालांकि इसके कुछ सुझाव भी उभर कर सामने आए हैं कुछ दुकानदारों का कहना है कि वह दुकान का सामान अंदर लगाने को तैयार है लेकिन आस पड़ोस के माहौल को देखकर मजबूरी बस उन्हें अपना सामान बाहर लगाना पड़ता है। अगर नगर पालिका शक्ति दिखाए तो सड़कों पर अतिक्रमण हट जाएगा। दुकान से बाहर सामान लगाने वालों पर कम से कम ₹5000 का जुर्माना निर्धारित किया जाना चाहिए। और यह अभियान रोज चलना चाहिए। रेहड़ी वालों को अपनी निर्धारित स्थान पर ही रहेड़िया लगानी चाहिए। नो पार्किंग जोन बनाए जाने चाहिए और नो पार्किंग जोन पर वाहन खड़े करने वालों का जुर्माना तुरंत मौके पर होना चाहिए। बरहाल समस्या ज्यों की त्यों है और काम ना करने वालों के लिए बहाने हजार हैं जनता परेशान है । 

कोई टिप्पणी नहीं:

AD

पेज